गुमनाम गाँव

मेरे नाम के चर्चे जमाने आम होते हैं 

तो फ़िर ये गाँव क्यू मेरा यहाँ गुमनाम रह जाये

कयी बातें कयी यादें जुड़ी है गाँव से मेरे 

तो फ़िर ये गाँव क्यू मेरा महज इक नाम रह जाये

यहाँ एक नदी गुजरती है जिसके दो बेसब्र किनारे हैं 

किनारों पे अगर बैठो यहाँ दिलकश नज़ारे हैं 

पुरी कायनात सी हरियाली यहाँ खेतों में दिखती है 

गाँव के बिचों बीच इक सड़क गुजरती है 

कभी तुम राहगीर बनकर यहाँ से गुजर कर देखो 

थम जाओ इक पल अगर जो निगाहें थम जाये

तो फ़िर ये गाँव क्यू मेरा यहाँ गुमनाम रह जाये
.

Click here to listen this poem in the voice of vaibhav sagar

.

कयी बातें और कहानियाँ यहाँ सबकी जुबाँ से है 

जो तुम सुनो उनको तो सब बेजुबां से है 

अगर झांको घरो में तो लोग नही बस दिल ही मिलते है 

ये कड़वा सच और है की ठंडे चुल्हे जलते हैं 

एक मंदिर का आँगन खुला तारों की छत पीछे 

कभी तुम आओ तो बैठो अशोक की छाँव के नीचे 

जहाँ हर शाम तुमको कितने ही चेहरे नज़र आये

तो फ़िर ये गाँव क्यू मेरा यहाँ गुमनाम रह जाये
.

वैभव सागर

आधा इश्क (प्रारंभ)-1

Era of aadha ishq

Starts from here

Presenting you

Aadha ishq series poems…

Feel the words.

.


.

मेरा हर कदम तेरी ओर बढा

तू एक कदम गर साथ चले

वो पल दो पल का सफ़र 

बस यादों के लिये संजोता हुँ 

माना मैं नही हुँ तुझमे पर 

मैं मेरा आधा इश्क जीता हुँ

.

तेरे इंकार की भी हद होगी 

मेरा इजहार भी बेहद निकला

तेरे नज़रों से टकराकर मैं 

जो बेवक्त इक सफ़र निकला

उस सफ़र के मंज़िल को जीता हुँ 

माना मैं नही हुँ तुझमे पर 

मैं मेरा आधा इश्क जीता हुँ

.

है आँसू भी इन राहों में शायद

पर तेरा मुस्कुराना गज़ब का है 

पलट के देखना वो मेरा तुझको 

तेरा बड़बडाना अजब नशा है 

आंखे तरेरना और मुझे डराना

उस डर को मैं जीता हुँ 

माना मैं नही हुँ तुझमे पर 

मैं मेरा आधा इश्क जीता हुँ.

.

तेरे बिन भी मैं हुँ पुरा 

ना कुछ खाली सा है मुझमे 

ना तुझ बिन कुछ अधूरा 

ना दर्द है ना तुमसे शिकायत 

ना ही दुआ है तू न इबादत 

आंखो के सागर को मैं 

अंदर ही अंदर पीता हुँ 

माना मैं नही हुँ तुझमे 

मैं मेरा आधा इश्क जीता हुँ

.

वैभव सागर 

.

Feel the words.

Feel the love in the air.

वो अनकहा सा प्यार -1

​पहला दिन पहली नज़र 

मासूम हँसी और 

दिल का मेरे इकरार

वो अनकहा सा प्यार

.

बातें हुइ चंद यादें हुइ 

कुछ खोया खोया लगता था

मुझमे ही तो थी मैं पर

मन सोया सोया रहता था

मुझे झ्झोडा जिसने वो था

एक शर्मीला मेरा यार 

वो अनकहा सा प्यार 

.

था फर्ज हिलोरे मारता

वतन की मोहब्बत कौन जानता

आन्धियां चली मेरे मन में

वो जा रहा था दुर कहीं 

बस आँसू ही थे बिछडन में

थी बातें जुबान पर कयी

पर लब खुल ना पा रहे

बस इतना तो पूछूँ मैं 

“सच मुझे छोडकर जा रहे?”

दिलों में था जो इंकार 

वो अनकहा सा प्यार

.

पलट के भी ना देखना

आँसुओं की कीमत पायी है 

है कोरा सच ये बिल्कुल

इसमे थोडी रुसवाई है 

अगर पलटी मैं या पलटा वो

तो शायद सब थम जाता

जी लेते मिलकर हम 

तो क्युँ ना पलटू इक बार

ये था अनकहा मेरा प्यार
वैभव सागर

.

.Story by :- kajal singh

Poem by :- vaibhav sagar 

तू तुझमे कोई और है 

​कुछ बातें हैं तेरी बेबाक सी

कुछ बातों में तू मौन है 

कयी राज़ है इस चुप्पी में

पर खामोशियों में एक शोर है 

बस इतना ये कह जाती है 

तू तुझमें कोई और है 

कहीं धरा आकार है तेरा 

कहीं धनक का तू रंग है 

मधुर बिहग सुर में तेरे 

एक बिरह का भी अंग है 

सरगम पे एक मोर है नाचता 

वो तुझमे तेरे संग है 
नदी के बहते पानी सी 

और आसमानो की  सोच है 

कुछ इरादे भी हैं तेरे 

और उनमे ही तेरी मौज है 

ये पेड़ , हवा , बारिश जो है 

तू बँधा इनसे एक डोर है 

सब तुझमे है तुझसे पर 

तू तुझमे कोई और है

वैभव सागर

. . .

For my dearest friend 

Debopam 

. . .

इक पगली लड़की है

है राह नही ना ही मंज़िल 

बस राही मेरी दोस्त है वो 

एक झल्ली सी लड़की है 

सब पूछे तेरी कौन है वो

. . .

अफ़साने कितने अंजाने हैं 

कुछ नये हैं  कुछ पुराने हैं

कुछ बनते बनते बन जाते

कोई कहते कहते पूछे वो 

इक लड़की देखी थी पागल 

मुझको बता तेरी कौन है वो 

है जबाब नहीं इन सवालों का

बस इक लाचारी सी लगती है 

पर उस पगली की बातें फ़िर 

इन सब पर भारी लगती है 

है नासमझी की हर हद वो

जो बैठ कभी समझूँ उसको 

खुदसे पूछूँ मेरी कौन है वो

. . .


. . .

जब चाहत की बातें आती हैं 

मेरे सर की नस दुख जाती है 

नासमझ मुझे समझाती है 

मैं बातों में बहका जाता हुँ 

और पागल मुझे बेहकाती है 

है दुनियादारी की सारी समझ 

दुनियां के लिये अन्जान है वो 

तू इससे पहले फ़िर पूछे की 

मुझसे मेरी ही पहचान है वो 

तूने जो पगली लड़की देखी है

मेरी दोस्ती का प्यारा नाम है वो . . .

. . .

वैभव सागर

. . .

yes, a boy and a girl can be a good friend… 

All we need to change our mind and our thoughts, just respect as a girl and treat as a friend.

Note it down that one good friend is beeter then 1000 sham friends.

chotti si aadat mujhe de do

​Wo choti si aadat mujhe de do

Tum apni muskurahat mujhe de do

Kehna hai tumse kitni he baaten

Saath baitho agar main Gungunaun

Bus itni ijajat mujhe de do

Tere aankhon main kho jaaun

Bus ek he nasha hai mera

Wo muskurahat hai teri

Jo tujhko hai shikayat is baat ka

Meri sikayaat mujhe de do

Tum apni muakurahat mujhe de do

.


.

Kayi baar manga hai Ibadat bhe ki hai

Tere gamon se hamne bagawat bhe ki hai

Khusiyoon ki hai teri shart agar

Milegi inyat jo rubaru mere magar

Kuch keh do ya milne ki mohlat de do

Milkar kuch na bolo lab se tum

Bus muskurahat bhari nazar de do

Ek choti si aadat mujhe de do

Tum apni muskurahat mujhe de do..

.

Happy new year.

मोहब्बत नाम हो जाये

After a hard time again ,I am  inspired by reading aastha gangwar Posts and by call and texts of mayank bhai .Thank you . . और आपलोगों के लिये खास मोहब्बत नाम हो जाये. . .

तेरे इश्क में मेरा ये इल्जाम हो जाये जो देखूँ तुझको तो मोहब्बत नाम हो जाये

तुझे ढूँढू दर-ब-दर और पालूँ सपनों में ना खोना चाहूँ बस रहना साथ मेरे 

तेरी आंखोँ में जो देखूँ आईना नज़र आये तुम्हारी मासूमियत का भी मोहब्बत नाम हो जाये

तेरी जुल्फें तेरी आंखेँ तू और तेरी बातें मुझे याद आती है तेरे जाने पे तेरी साँसें

तेरी आवाज से मिलकर मेरे अल्फाज गीत बन जाये

दो चार बातें फ़िर करलुं  चर्चे दिवाने आम हो जाये हमारी दीवानगी का भी मोहब्बत नाम हो जाये

तू चले , मैं धूल बनू उड़ जाऊँ हवाओं में तुझसे 

तेरी एक छूवन का एहसास मेरे रोम रोम में बस जाये

तुझको रब मान माँगू तुझी से तू मिल तो ख्वाब मुकम्मल हो जाये

जो तुम हसने लगों बातों से मेरी दो पल यहीं पर रुक जाये

तुम मुझमे मिल जाओ ऐसे की मोहब्बत नाम हो जाये

कभी मेरी किताबों के भी पन्ने चार तुम देख लेना 

हमारे मिलने की बातें कभी  सरेआम तुम कह देना

थोडा मैं बदनाम हुँ इश्क में थोडा तू भी बदनाम हो जाये

हमारे खूबसूरत इश्क का फ़िर मोहब्बत नाम हो जाये. . . 

To be continued. . . 

वैभव सागर

रात अधूरी बीत गयी

कुछ दाने है बिखरे मनके 

क्यू रात अधूरी बीत गयी 


जो बात छुपी थी मेरे मन में

वो बात अधूरी बीत गयी 

टपक पडे आंखोँ से मोती

सारा रंग उनमें धो डाला

कुछ रंग मिला बेरंग सही 

और याद निगोडी बीत गयी

कितना कुछ था कहने को 

और रात निगोडी बीत गयी

अब तुम बिन मैं कैसा हुँ 

बस तारों के जैसा हुँ 

है साथ सभी सपने मेरे 

पर मंज़िल आते भोर हुइ

हो रात मेरी तुम काली शायद 

हर बार तुम्हारी जीत हुइ

कितना कुछ था कहने को 

और रात निगोडी बीत गयी

कुछ वादें थे हमको करने 

कुछ लम्हे साथ बिताने थे

उलझा के नैनों को तुझमे 

हमको सरग़म बनाने थे

पर रात हमारी सौतन थी

दो घडी में ही बीत गयी 

हम मिल न सके देखो फ़िर 

क्यू रात अधूरी बीत गयी. . .

INKI LUTIYAA DOOB GAYI

YE CHOR BANE CHANDAAL BANE

CORROPTION SE MALAMAAL BANE

HEKADI DIKHATE CHAL CHALE

OR HUA HADSA KUCH AISA

INKE SAR  UPAR BOOT HUE

INKI LUTIYA HE LOOT HUE.

AB ALAW YE JALAYENGEE

THANDHI DOOR BHAGAYENGE.

KITNI KHOUF SE PALA INHONE 

AB DER DER KER JALAYENGE

INKE SAPNE MAIN MODI AATE

BHASAAN DETE YE GHABRAATE

HAI AAM AADMI THODA MUSKIL

KUCH AASAN NAHE HAI MANJIL

SAATH HAMARE KOI NA HOGA

100 50 KE NOTE BUS SAARE

BHIKHARIYOON KI NIKAL PADI

CORRUPT BAITHE BECHARE

HUM SAATH MILKE AAJYENGE

SUR MAIN SUR MILAYENGE

KITNOKI POL KHULI HAI AB TAK

KITNO KI KHOLTE JAAYENGE

INKI LUTIYAA FIR DUBAYENGEE.
Poem by vaibhav sagar

Celebrating diwala day

Tu intezaar hai.

tu intezaar hai

Aankhon ki

Dekhne ko baaris

Mere dil ki

Bekrar hai 

Aahen ratoon ki

Manga deedar hai

Tu intezaar hai

Tu intezaar hai

Muskil sa lamhaa

Tere bagair

rahen suni meri

Rahe dil tanhaa ki

Tanhayi bekraar hai

Tu intezaar hai

Tu intezaar hai

Lafjon ki mere

Rang laal hai

Tu din sawre 

Beh nikli jo

Harf e dil ki

Rang laal de

Ye khumaar hai

Tu intezaar hai.