#109

Tu aakhir tak mujhme kisi phool main khusbu ki tarah.

.

Main bhe aakhir tak yaheen hun kinhi patoon per oos sa. . . .

Advertisements

#107

मेरी बेपरवाही और तेरा ख्याल

अलग अलग पहलू हैं 

इस इश्क़ तेरे मेरे 

मुकम्मल की 
©वैभव 

#106

Tum mere ho sirf mere

                    Kehkar nazren milana tera

Is ek pal main tere pyaar pe

                        Sou baar mara hun mai

_______________________________________

तुम मेरे हो सिर्फ मेरे 

                            कहकर नज़रें मिलाना तेरा

इस एक पल में तेरे प्यार 

                            पे सौ बार मरा हूँ मैं 

©वैभव सागर

#105

तेरे प्यार से फुरसत नही

मेरा मासूम दिल नही रुकता

देख लेना मेरी आँखों में 

मुकम्मल शब्द नही मिलता।

———————————————————-

©वैभव सागर 

#104

तुम्हारी धीमी सी आहट
और दिल को पता चल जाता है

तुम्हारी लड़खड़ाती आवाज

और मेरा दिल बखूबी जानता है…

.

#vaibhav

तेरी तस्वीर

दिन के इन उजालों में 

जो आंखे बंद मैं कर लूं

तेरा चेहरा दिखे मुझको

तो सांसे फिर भर लूं मैं,,

पूरी दुनियादारी से दूरी 

तेरी दूरी से कम लगती

दूरी मिटाने की खातिर

तुझको याद कर लूं मैं,,

किसी रोज बातें ना करना

तड़पना मुझको जलाना

और मैं जो जल जाऊं 

तो दूरी फिर सताती है ,,

तेरी तस्वीर सिरहाने 

लिए बैठा रहा हूँ मैं

अब तुझको क्या कह दूं

क्या रूठा रहा हूँ मैं,,


मुझको मनाने का हुनर

तुझे ये कब से आता है

तेरी तस्वीर के साये में 

अब जीता रहा हूँ मैं ,,,,
©वैभव सागर 

Love the way

I love the way you smile

Love the way you say it

I love that unique style

Love that word “don’t know”

and after that your wraped face

To which i always wanna kiss

The pink and gray your lips

And your anger with that ego

Attitude makes you perfect to go

For a long journey of life with me

I promise i ll never flee

To the way you care for me

And all the day you miss me

That word love you won’t accepts

And long long gossips .

i love the way you say that

You were are will be there for me

Since for whenever i need.

So, i found the reason to trust you more

To miss you more 

and the way you love me

I love that way more.

.

©vaibhav sagar

आओ एक शाम बैठो नदी के किनारे 

आओ एक शाम बैठो नदी के किनारे 

जो है तो बेवजह आओ वक़्त गुजारे 

मैं बातें फिर सारी तुम्हारी करूँगा 

तुम मुझको सुनती जाना 

मैं तेरे मन की कहता जो जाऊं

तुम मेरा मन भी पढ़ती जाना 

इठलाना और मुझसे दूर भागना

और तेरे पीछे मैं दौडूं तेरा नाम पुकारे 

आओ एक शाम बैठो नदी के किनारे

.

जो चाहो तो भर लेना मुझको बाहों में अपनी 

या फिर यूँ ही मेरी ओर देख मुस्कुराना 

की आँखों के इशारे तेरे पढ़ जो लूंगा

तूम मन ही मन सब कहती जाना 

या गर चाहो जो तो मैं दूर नज़र आऊं

पर क्या होगा गर घबराहट मेरी बातें बिगाड़े

आओ एक शाम बैठो नदी के किनारे

.


तेरी अधरें जो कांपी तो अपनी से छु लूंगा 

 हमारे मिलने की बातें सरेआम कह दूंगा 
और तुम मेरे लब पे अपने लब रखो 

की ऐसी रिसवत जो मुझे चुप कराये 

कोई पूछे तेरी हालात तो मेरा नाम दो बताये 

और अगली बार मिलने घंटो खुद को सवारे

आओ एक शाम बैठो नदी के किनारे । । ।

©वैभव सागर 

#100

बेवजह बातें हमारी तुम्हारी 

मैं तुमको सुनते जाता हूँ

तुम मुझको सुनती जाती हो

मेरे बहुत सवालों का तुम 

एक जबाब दे पाती हो

ये कुछ नहीं तेरा मेरा 

कितना कुछ होता है ना ।

वैभव सागर